Ghalib Shayari | Best Of Mirza Ghalib Shayari In Hindi |

Ghalib Shayari | Best Of Mirza Ghalib Shayari In Hindi |
Gahalib Shayari

Who dosent know Mirza Ghalib? He was one of the great Shayar in this world ever born. He changed the way we look at Shayaris and Poems. In this post, we are going to share with your some of the best Ghalib Shayari. So stay tuned.

Mirza Ghalib was born on 27 December 1797 in Agra India, His full name was Mirza Asad Ullah Baig. And he died on 15 February 1869. He wrote Shayaris On Every Aspect of life and every shayar out there love him for his work. Let’s Have a look at Mirza Ghalib Shayari In Hindi.

Also Read : Best Urdu Quotes With Images (2021)

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’ कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Ishq Par Zor Nahi Hai Ye Wo Atish Ghalib, Ki Lagae Na Lage Aur Bujhae Na Bane.

ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते, कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर।

Zindagi se hum apni kuch udhar nahi lete, Kafan bhi lete hai to apni zindgi dekar.

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’।  शर्म तुम को मगर नहीं आती।।

Kaba Kis Muh Se Jaaoge Ghalib, Sharm Tum Ko Magar Aati Nahi

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन दिल के ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

Hum Ko Malum Hai Jannat Ki Hakeekat Lekin, Dil Ke Khush Rakhne Ko Ghalib Ye Khayal Achha Hai.

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया वर्ना हम भी आदमी थे काम के

Ishq Ne Ghalib Nikamma Kar Diya, Warna Hum Bhi Aadmi The Kaam Ke.

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Uss Sadgi Pe Kaun Na Marjae Ae Khuda, Ladte Hai Aur Haath Mein Talwaar Bhi Nahi.

वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

Wo Aae Ghar Mein Hamare Khuda Ki Kudarat Hai, Kabhi Hum Unko Kabhi Apne Ghar Ko Dekhte Hai.

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है  आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

Dil E Naadan Tujhe Huaa Kya Hai, Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai?

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते

Kitna Khauf Hota Hain Shaam Ke Andheron Mein, Puch Un Parindo Se Jinke Ghar Nahi Hote

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए

Dard jab Dil Mein Ho To Dawa Kijiye, Dil Hi Jab Dard Mein Ho To Kya Kijiye?

तुम न आए तो क्या सहर न हुई हाँ मगर चैन से बसर न हुई।

Tum Na Aae To Kya Sahar Na Hui, Haan Magar Chain Se Basar Na Hui

Ghalib Shayari On Love

Mirza Ghalib shayari Wit h Image
Mirza Ghalib

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का,
उसी को देखकर जीते हैं जिस क़ाफ़िर पे दम निकले।

Mohobbat Mein Nahi Hai Fark Jeeney Marney ka, Usi Ko Dekh kar Jeetey Hai Jis Kaafir Pe Dum Nikley

बेवजह नहीं रोता कोई इश्क़ में ग़ालिब
जिसे ख़ुद से बढकर चाहो वो रुलाता ज़रूर है।

Bewajah Nahi Rota Koi IShq Mein Ghalib, Jissey Khud Se Badhkar Chaho Wo Rulata Zaroor Hai.

आशिक़ हूँ पर माशूक़ फ़रेबी है मेरा काम,
मजनू को बुरा कहती है लैला मेरे आगे।

Ashiq Hun Par Mashuk Farebi Hai Mera Kaam, Majnu Ko Bura Kahti Hai Laila Mere Aage.

हम तो फना हो गए उसकी आंखे देखकर गालिब, न जाने वो आइना कैसे देखते होंगे।

Hum to Fanaah Ho Gaye Uski Aankhe Dekh Ke Ghaalib, Na Jaane wo Aaina Kaise Dekhte Honge

Ghalib Quotes

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’
तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..!

Tune kasam may-kashee kee khaee hai ‘gaalib’
teree kasam ka kuchh etibaar nahee hai..!

कहाँ मयखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज
पर इतना जानते है कल वो जाता था के हम निकले..

Khaan mayakhaane ka daravaaza ‘gaalib’ aur kahaan vaij
par itana jaanate hai kal vo jaata tha ke ham nikale..

बना कर फकीरों का हम भेस ग़ालिब
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते है..

Bana kar phakeeron ka ham bhes gaalib
Tamaasha-e-ahal-e-karam dekhate hai..

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान झूठ जाना,
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता ।

Tere vaade par jiye ham, to yah jaan jhooth jaana,
Ki khushee se mar na jaate, agar etabaar hota .

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़।
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।

Un ke dekhe se jo aa jaatee hai munh par raunaq.
Vo samajhate hain ki beemaar ka haal achchha hai..

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।

Esharat-e-qatara hai dariya mein fana ho jaana.
dard ka had se guzarana hai dava ho jaana..

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

Dil se teree nigaah jigar tak utar gaee.
donon ko ik ada mein razaamand kar gaee..

Galib Shayari

Ghalib Shayaris On Life

लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”। हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है।

Lafzo ki tarteeb mujhe bandhni nahi aati “Ghalib” Tum tumko yaad krte hai seedhi si baat hai.

जान तुम पर निसार करता हूँ,
में नहीं जानता दुआ क्या है.

Jaan Tum Par Nisaar Karta Hun, Mein Nahi Jaanta Duaa Kya Hai.

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन, बैठे रहें तसव्वुर–ए–जानाँ किए हुए !!

Jee Dhundta Hai Phir Vhi Fursat Ki Raat Din, Baithe Rhe Tasvur-Ae-Jaan Kiye Hue.

मुहब्बत में उनकी अना का पास रखते हैं, हम जानकर अक्सर उन्हें नाराज़ रखते हैं

Mohbaat Me Unki Ana Ka Pass Rakhte Hai, Ham Jaankar Aksar Unhe Naraj Rakhte Hai.

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी, बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया

Bheege Hui Se Raat Me Jab Yaad Jal Uthi, Badal Sa Ek Nichod Ke Sirhane Rakh Liya

जब की तुज बिन नहीं कोई मौजूद,
फिर ये हंगामा ऐ खुदा क्या है

Jab Ki Tujh Bin Nahi Koi Maujood, Phir Ye Hungama Ae Khuda Kya Hai

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ ग़ालिब,
नसीब उनके भी होते है जिनके हाथ नहीं होते

Hathon Ki Lakeeron Pe Mat Ja Ae Ghalib , Naseeb Unke BHi Hote Hain Jinke Haath Nahi Hote

उस पे आती है मोहोब्बत ऐसे,
झूठ पे जैसे यकीन आता है.

Uspe Aati Hai Mohobbat Aise, Jooth Pe Jaise Yakeen Aata Hai.

Guys if you have enjoyed above Ghalib Shayari Then please share with your friends and family.

images